पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून क्यों आता है | Bina Period ke Blood Kyo Aata Hai

पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून क्यों आता है : पीरियड के दौरान लगभग हर महिला की योनि से या प्राइवेट पार्ट से खून आता है, और इस दौरान पीठ में दर्द या पेट में दर्द, या क्रैंप्स होते है। इसके अलावा मूड स्विंग्स, थकान, फूड क्रेविंग और भी कई समस्याओं का महिलाओं को सामना करना पड़ता है

दरअसल पीरियड के यह ५ दिन महिलाओं का सफर काफी परेशानी भरा रहता है इसी कारण पहले महिलाओ को इन ५ दिनों में आराम मिल सके इसलिए उन्हें सभी कामों से दूर रखा जाता था

लेकिन कुछ महिलाओं को उन ५ दिनों के अलावा भी कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है क्योंकि उन्हें इसके अलावा भी महीने में काफी बार उनके प्राइवेट पार्ट से खून आने की समस्या का सामना करना पड़ता है

 

Bina Period ke Blood Kyo Aata Hai

 

पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून क्यों आता है

क्या आप को भी पीरियड के बाद या फिर प्रेड्स ना होने पर, वेजाइनल ब्लीडिंग की समस्या हो रही है? या फिर पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून आता है? यदि हां तो आज का यह लेख आपके लिए है

दरअसल पीरियडमें महिलाओं का प्राइवेट पार्ट से खून बहना आम बात है लेकिन अगर पीरियडके बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून क्यों आता है? तो इसके काफी सारे कारण हो सकते हैं। जानते हैं इन्हीं में से कुछ मुख्य कारण

अगर आपके प्राइवेट पार्ट से बिना पीरियड खून बह रहा है तो इसे मासिक साइकिल की गड़बड़ी समझने की भूल न करे यह अन्य शारीरिक समस्याओं की तरफ एक इशारा भी हो सकता है

 

image source by myupchar

 

गुप्त पार्ट से खून बहना, पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून आना, वजाइनल ब्लीडिंग या स्पॉटिंग होना हल्के में ना लें। कई बार बढ़ती उम्र या हार्मोनल बदलाव के कारण भी यह समस्या हो सकती है

अचानक टॉयलेट जाने के बाद आप, प्राइवेट पार्ट से खून आता देख पीरियड समझकर प्याड लेकर नजर अंदाज कर देते हो तो ऐसा करना बंद करो। आपको आपके शरीर की तरफ ध्यान देने की जरूरत है

बिना डेट के पीरियड आना या फिर महीने में दो से तीन बार खून का बहना एक बड़ी समस्या हो सकती है इसलिए हो सके तो आपके डॉक्टर से बात करें

संबंध के बाद या गर्भावस्था में प्राइवेट पार्ट से खून बहना निशित रुप से किसी खतरे का इशारा है

इसी वक्त आपको सावधान होने की जरूरत है और यह समझिए कि निश्चित रूप से आपके शरीर में कुछ गलत चल रहा है

वैसे यह समस्या संचारित संक्रमण, पैलविक में सूजन से भी हो सकते हैं। इसके कारण प्रजनन से अन्य अंगों में सूजन आ सकती है

गर्भाशय या गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर या बर्थ कंट्रोल पिल लेने से या अंतर्गतगर्भाशयि उपकरणों का इस्तेमाल करने से हो सकता है

अगर आपको इनमें से किसी भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है, या आपका शरीर आपको चेतावनी दे रहा है, तो तुरंत आपके डॉक्टर से संपर्क करे और इसके वजह का पता लगाएं

और जल्द से जल्द उपचार करे। याद रखिए की पीरियड का ज्यादा दिन चलना या ज्यादा दिन तक होना यह भी सामान्य नहीं है

 

पीरियड के बिना प्राइवेट पार्ट से खून आने का कारण

पीरियड के बिना प्राइवेट पार्ट से खून आने के कई कारण हो सकते हैं। नीचे उनमें से कुछ आम कारण बताए गए हैं इसे आप को पढ़ना चाहिए

 

1. वजाइनल इंफेक्शन (Vaginal Infection)

एक फंगल संक्रमण है जिस कारण आपके योनि में या प्राइवेट पार्ट मे जलन, सफेद स्राव (व्हाईट डिस्चार्ज) और तीव्र खुजली होने लगती है। इसे योनि कैंडिडिआसिस भी कहा जाता है। इस कारण भी योनि से असामान्य रक्तस्राव हो सकता है

 

2. थायरॉयड (Thyroid)

थायराइड हार्मोन प्रजनन जीव विज्ञान को प्रभावित करने के लिए जाना जाता है। महिलाओ मे असामान्य गर्भाशय रक्तस्राव इसके लक्षणों मे से एक है

थायराइड उत्तेजक हार्मोन (THS),  गोनैडोट्रोपिन की समानता के कारण – फोलिकल-स्टिम्युलेटिंग हार्मोन (FSH) और ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (LH) और अंडाशय पर सीधे प्रभाव डालकर मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकते हैं,

इसी कारण महिलाओ के प्राइवेट पार्ट से बिना पीरियड भी खून बह सकता है

 

3. पीसीओएस पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Pcos Polycystic ovary syndrome)

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) हार्मोन से जुड़ी एक समस्या है जो प्रजनन के वर्षों के दौरान होती है

आपको पीसीओएस है तो आपको बार-बार मासिक धर्म नहीं होंगे या फिर आपके पीरियड कई दिनों तक चल सकते हैं

पीसीओएस के साथ, अंडाशय के बाहरी किनारे पर तरल पदार्थ की कई छोटी थैलियां विकसित हो जाती हैं। इन्हें सिस्ट कहा जाता है

द्रव से भरे छोटे सिस्ट में अपरिपक्व अंडे होते हैं। इन्हें फॉलिकल्स कहा जाता है. इस कारण नियमित रूप से अंडे जारी करने में असफलता आती है

मासिक धर्म की कम अवधि होना या नियमित न होना पीसीओएस के सामान्य लक्षण हैं। इसका इलाज जल्द से जल्द करना जरूरी है इसके कारण आपको गर्भधारण करने में भी परेशानी हो सकती है

 

4. यौन संचारित रोग (STD) 

यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई), जिसे यौन संचारित रोग (एसटीडी) और पुराने शब्द यौन रोग भी कहा जाता है, ऐसे संक्रमण हैं जो यौन गतिविधि, विशेष रूप से योनि संभोगऔर मौखिक संबंध से फैलते हैं

एसटीआई अक्सर शुरू में लक्षण पैदा नहीं करते हैं, इसके परिणामस्वरूप संक्रमण दूसरों तक फैलने का खतरा होता है

एसटीआई के लक्षणों और संकेतों में योनि स्राव, व्हाईट डिस्चार्ज, दर्द होना या सूजन की वजह से रक्तस्राव हो सकता है। कुछ एसटीआई बांझपन का कारण बन सकते हैं। इसलिए समय पर इलाज करना जरूरी है

 

5. दवाओं के सेवन (Medication)

अगर आप लंबे समय से कोई दावा ले रहे हो तो आप सुरक्षा की झूठी भावना से ग्रस्त हो सकते हैं कि सब कुछ ठीक है

आप को इस कारण रक्तस्राव का भी सामना करना पड़ सकता है। आपको समय पे इसके लक्षणों को जानें और समझ ने की जरूरत है

गलत दवाई के कारण या ज्यादा दवाई लेने के कारण आपको सूक्ष्म मात्रा में रक्त से लेकर बड़े पैमाने पर रक्तस्राव हो सकता है इसलिए हमे हमेशा डॉक्टर के सलाह से ही दवा लेनी चाहिए

जो महिलाएं नियमित रूप से गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन कर रही होती हैं, उनके अचानक दवाओं का सेवन छोड़ने पर असामान्य पीरियड शुरू हो सकते हैं। इस कारण उन्हें अतिरिक्त सतर्क रहना चाहिए, और समय पर डॉक्टर की सलाह लेना न भूले

 

6. तनाव हो या परेशानी (Stress & Tension)

कभी – काभी तनाव के कारण भी बिना पीरियड प्राइवेट पार्ट से खून बह सकता है

हर महने महिला का शरीर यूटरस को गर्भावस्था के लिए तैयार करता है इस लिए शरीर एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्राव करता है

इसी दौरान ओव्यूलेशन के दिनों के बाद पिरीयड के 14 वे दिन Fertilisation के लिए अंडा बनाता है। यदि इस दौरान अंडे का फर्टिलाइजेशन कमियाब नहीं हो पता। तभी यह अंदरूनी परत टूटने लगती है और पीरियड के दौरान शरीर से बाहर रक्तस्राव में निकल जाती है

अगर आप तनाव मे हो तो इस दौरान कोर्टिसोल (Cortisol) का बढ़ा हुआ स्तर प्रजनन हार्मोन के स्तर में असंतुलन पैदा करता है जिसके कारण प्रजनन चक्र असंतुलित हो सकता है

इसी दौरान महिला ने अंडे का डिस्चार्ज नहीं भी किया हो तो इस कारण हार्मोन असंतुलित होकर, शरीर को भ्रमित करते है और इसी कारण आपको अनियमित रक्तस्राव हो सकता है

हार्मोन असंतुलित होने के कारण आपके  मासिक धर्म चक्र मे गड़बड़ हो सकती है। यह दरअसल आम बात है लेकिन अगर आपको हर बार इसका सामना करना पड़ रहा है तो, इस बारे मे डॉक्टर की राय लेना सही है।

अगर आप को इन मे से कोई भी लक्षण दिखाई देने लगे है, तो बेहतर है की आप जल्द से जल्द किसी डॉक्टर की राय ले। वही आपको बात सकते है की पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून क्यों आता है?

 

रक्तस्राव के लक्षणों को नज़रअंदाज न करना क्यों महत्वपूर्ण है

काफी बार बिना पीरियड के प्राइवेट पार्ट से खून आना गंभीर बात हो सकती है। महिलाओ मे रक्तस्राव होना या, ना होना महत्वपूर्ण है। ज्यादा रक्तस्राव आपके शरीर के लिए गंभीर साबित हो सकता है

 

image source by myupchar

 

इसके कारण आप को और भी समस्याओ का सामना करना पड़ता है, जैसे की, हाइपोटेंशन, बेहोशी, डायफोरेसिस, या कैंसर का भी खतरा हो सकता है

संकेत या लक्षण नजर आते ही तुरंत डॉक्टर से बात कर के इलाज करे, और खुदकी सेहत का खयाल रखे

रक्तस्राव गंभीर हो सकता इसे स्थिर करना महत्वपूर्ण है। इसीलिए अपने लक्षणों को नज़रअंदाज़ न करें। आपका जीवन इस पर निर्भर हो सकता है

 

महिला को डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए

पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से 1 या 2 बार खून आना आम बात हो सकती है। लेकिन अगर आप हर बार इसका सामना कर रहे हों तो यह चिन्ता की बात हो सकती हैं

बिना पीरियड के खून आना किसी खतरे का इशारा भी हो सकता है, इसी कारण आपको डॉक्टर के पास जाकर जांच कर लेनी चाहिए।

इसके अलावा आपके पीरियड 21 दिनों से पहले या 30 दिनों से ज्यादा हो तो, यह आम बात नही, आपको इसका योग्य कारण जानने के लिए डॉक्टर से राय लेना जरूरी है

पीरियड के दौरान अगर ज्यादा क्रैम्प और बहुत ज़ायदा ब्लीडिंग होना अच्छे संकेत नहीं है। इसे नजर अंदाज न करे

अगर आप ऊपर दिए गए लक्षण में से किसी लक्षण का सामना कर रहे हो तो बिना देरी किए डॉक्टर से बात करें और योग्य उपचार ले।

 

पीरियड में मांस के टुकड़े, थक्के (Periods Clotting) क्यों आते हैं

यदि आप अपने मासिक धर्म के रक्त में मांस के टुकड़े होने का महसूस कर रहे हों तो आपको बता दें कि इसे थक्के कहा जाता हैं।

हालाँकि, मासिक धर्म के दौरान रक्त के थक्के बनना सामान्य है और इसमें चिंता करने का कोई कारण नही है

दरअसल मासिक धर्म के थक्के रक्त कोशिकाओं, गर्भाशय की परत के ऊतक और रक्त में प्रोटीन का मिश्रण होते हैं जो पीरियडके प्रवाह को नियंत्रित करने में मदद करते हैं

थक्के तब बनते हैं जब गर्भाशय की परत अधिक मात्रा में रक्त बहाती है। जब रक्त गर्भाशय या योनि में जमा हो जाता है, तो यह जमना शुरू हो जाता है, ठीक वैसे ही जैसे यह किसी खुली त्वचा के घाव पर होता है

कई बार कुछ चिकित्सीय स्थितियाँ या दवाइयां भी बड़े रक्त के थक्कों का कारण बन सकती हैं। यदि आप अपने मासिक धर्म के थक्कों के बारे में चिंतित हैं तो उन्हें डॉक्टर को दिखाना चाहिए

मासिक धर्म के रक्त का गाढ़ा गोला देखना आश्चर्यजनक हो सकता है, लेकिन, ज्यादातर मामलों में, रक्त के थक्के मासिक धर्म का एक स्वाभाविक हिस्सा हैं

आमतौर पर इसका मतलब यह नहीं है कि कोई समस्या है, लेकिन कभी-कभी यह किसी स्वास्थ्य स्थिति का संकेत हो सकता है।

रक्त के थक्के शरीर की रक्षा तंत्र का एक स्वाभाविक हिस्सा हैं। मासिक धर्म के थक्के की मोटी, जेली जैसी बनावट बहुत अधिक रक्त को निकलने से रोकने में मदद करती है

मासिक धर्म के थक्के आम तौर पर तब होते हैं जब प्रवाह भारी होता है। वे मासिक धर्म के पहले 2 दिनों के दौरान अधिक आम हैं, जो आमतौर पर मासिक धर्म का सबसे भारी हिस्सा होता है

थक्के चमकीले रंग के या, गहरे लाल रंग के हो सकते हैं। अधिक बड़े थक्के काले दिख सकते हैं। मासिक धर्म का रक्त प्रत्येक माहवारी के अंत में गहरा और अधिक भूरा दिखाई देने लगता है क्योंकि रक्त पुराना हो जाता है

 

FAQ :  Periods Ke Bina Bhi Private Part Se Khun Kyu Aata Hai

सवाल : पीरियड महीने में दो बार आए तो क्या करना चाहिए

अपने डॉक्टर की सलाह ले साथ ही आपको आपके रूटीन मे बदलाव की जरूरत है जैसे मेडिटेशन व्यायाम, पौष्टिक आहार और पर्याप्त नींद का होना जरूरी है।

सवाल : पीरियड 15 दिन जल्दी क्यों आते हैं

आपके हार्मोन के स्तर में बदलाव के कारण, तनाव या परेशानी के कारण आपका मासिक धर्म जल्दी आ सकता है। या यह कुछ दवाओं के कारण भी हो सकता है। अगर आपको हर बार यह समसस्या हो रही है तो डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है।

सवाल : स्पॉटिंग कितने दिनों तक चलती है

स्पॉटिंग में थोड़ा-सा ही खून बहता है। स्पॉटिंग केवल दो दिन तक ही तक चलती है

सवाल : डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए

  • महिने में कई बार प्राईवेट पार्टस से खून आना
  • महिने में २ से ३ बार पीरियड आना
  • २१ दिन पहले पीरियड आना
  • ३५ दिन तक पीरियड न आना
  • ३० दिनोसे ज्यादा दिन तक पीरियड रहना
  • पीरियड में ज्यादा क्रैंप्स आना
  • प्राईवेट पार्टस से लगातार खून बहना
  • ब्लड्स क्लॉटस
  • असामान्य या लगातार ब्लीडिंग होना

सवाल : अनियमित पीरियड के कारण क्या मुश्किलें होती हैं

अनियमित मासिक चक्र की वजह से फर्टिलिटी की समस्या हो सकती है। और आपको प्रेगनेंट होने में काफी दिक्कत आ सकती है

सवाल : अनियमित पीरियड के लिए घर पर क्या उपाय कर सकते है

  1. नियमित व्याम करना
  2. मेडिटेशन और योगा करना
  3. संतुलित आहार लेना

यह समस्या तान तनाव के कारण भी हो सकती हैं। हो सके तो पहले डॉक्टर की राय ले

सवाल : क्या अनियमित पीरियड होना एक सामान्य बात है

अगर यह कभी कभी होता है तो, शायद तनाव के कारण ऐसा हो सकता है। इसके अलावा हर बार आपको इसका सामना करना पड़ता है तो डॉक्टर से बात करने का वक्त आ चुका है

सवाल : बार-बार ब्लीडिंग होने के मुख्य कारण

  • वजाइनल इंफेक्शन
  • थायरॉयड
  • पीसीओएस पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Pcos Polycystic ovary syndrome)
  • यौन संचारित रोग (एसटीडी) Sexually transmitted diseases (STDs)
  • दवाओं का सेवन (Medication)
  • तनाव या परेशानी (Stress & Tension)

सवाल : क्या मुझे अपने पीरियड पर स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास जाना चाहिए

हां, भारी रक्तस्राव होने पर या पीरियड से लेकर कोई भी समस्या हो तो आपको डॉक्टर से बात करना जरूरी है

सवाल : क्या पीरियड्स के दौरान मेडिकल टेस्ट किया जा सकता है

हां.. खून की जांच करने में कोई परेशानी नहीं होती अगर आपके डॉक्टर ने यह टेस्ट कराने के लिए कहा है तो आप बे झिजक मेडिकल टेस्ट कर सकते हो

 

Conclusion

पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून क्यों आता है? यह लेख अंत तक पढ़ने के लिए शुक्रिया। हमें उम्मीद है कि, आपको आपके सवालों का योग्य जवाब मिल गया होगा

हमने बताया अगर पीरियड के बिना भी प्राइवेट पार्ट से खून आता है या आपको ऊपर दिए गए लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो, जितने जल्दी हो सके उतने जल्दी डाक्टर की राय ले

यह समस्या छुपाओगे तो मुश्किलें बढ़ सकती है। आपको इस वक्त डरने की जरूरत नहीं है। यह समस्या का सामना करने वाले आप अकेले नहीं है

इस परेशनी से निपटने के कई तरीके हैं। अगर डाक्टर से बात करने में आपको हिचकिच हो रही  है तो आप आपके माता, पिता, या बहन से बात करो या किसी भरोसेमंद व्यक्ति से बात करो

हमेशा याद रखो इसके अलावा आपको आपके पीरियड की साईकिल, मासिक चक्र की तारीख याद रखना जरूरी है

इससे आप आपके शरीर को बेहतर तरीके से समझ सकते हो। इसी के जरिए आप को सही उपचार लेने में मदद मिलेगी

यह जानकारी आपको समाधानकारक लगी हो तो, आपके दोस्तो के साथ जरूर शेयर करें। और ऐसे जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग को फॉलो करें

Leave a Comment